ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

आखिरी तारीख 31 दिसंबर तक दाखिल किए गए करीब 5.89 करोड़ आयकर रिटर्न

सीबीडीटी ने कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 (आकलन वर्ष 2021-22) के लिए कुल दाखिल 5.89 करोड़ रिटर्न में से 49.6 प्रतिशत आईटीआर-1 (2.92 करोड़), 9.3 प्रतिशत आईटीआर-2 (54.8 लाख), 12.1 प्रतिशत आईटीआर-3 (71.05 लाख), 27.2 प्रतिशत आईटीआर-4 (1.60 करोड़) और 1.3 प्रतिशत आईटीआर-5 (7.66 लाख) हैं.
NDTV Profit हिंदीNDTV Profit Desk
NDTV Profit हिंदी05:14 PM IST, 01 Jan 2022NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए 31 दिसंबर को समाप्त समयसीमा तक नए ई-रिटर्न दाखिल करने के पोर्टल के जरिये करीब 5.89 करोड़ आयकर रिटर्न (आईटीआर) जमा किए गए हैं. आयकर विभाग ने शनिवार को यह जानकारी दी. इनमें से 46.11 लाख रिटर्न आखिरी तारीख यानी 31 दिसंबर को दाखिल किए गए. सीबीडीटी ने कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 (आकलन वर्ष 2021-22) के लिए कुल दाखिल 5.89 करोड़ रिटर्न में से 49.6 प्रतिशत आईटीआर-1 (2.92 करोड़), 9.3 प्रतिशत आईटीआर-2 (54.8 लाख), 12.1 प्रतिशत आईटीआर-3 (71.05 लाख), 27.2 प्रतिशत आईटीआर-4 (1.60 करोड़) और 1.3 प्रतिशत आईटीआर-5 (7.66 लाख) हैं.

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "इनमें से 45.7 प्रतिशत से अधिक आईटीआर पोर्टल पर ऑनलाइन आईटीआर फॉर्म का उपयोग करके दाखिल किए गए हैं और शेष को ऑफलाइन सॉफ्टवेयर उपयोगिताओं से बनाए गए आईटीआर का उपयोग करके अपलोड किया गया है." इसकी तुलना में आकलन वर्ष 2020-21 के लिए विस्तारित तारीख 10 जनवरी, 2021 तक 5.95 करोड़ आयकर रिटर्न दाखिल हुए थे. 10 जनवरी, 2021 को आखिरी दिन 31.05 लाख आयकर रिटर्न दाखिल किए गए थे. इनमें से 46.11 लाख रिटर्न आखिरी तारीख यानी 31 दिसंबर को दाखिल किए गए.

आयकर विभाग ने कहा, "विभाग करदाताओं, कर व्यवसायियों, कर पेशेवरों और अन्य लोगों के योगदान को कृतज्ञतापूर्वक स्वीकार करता है, जिन्होंने इसे संभव बनाया है. हम सभी के लिए एक सुचारू और स्थिर करदाता सेवा अनुभव सुनिश्चित करने के लिए अथक प्रयास करने के अपने संकल्प को दोहराते हैं."

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
NDTV Profit हिंदी
लेखकNDTV Profit Desk
NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT