ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

Byju's Layoff: कर्ज संकट में फंसी बायजू में छंटनी का नया दौर, 1000 कर्मियों को निकालने की प्रक्रिया शुरू

एडटेक कंपनी इस बार ट्रेनिंग, सेल्स, फाइनेंस और लॉजिस्टिक जैसे डिपार्टमेंट्स में कटौती कर रही है.
NDTV Profit हिंदीNDTV Profit डेस्क
NDTV Profit हिंदी10:50 AM IST, 20 Jun 2023NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

1.2 बिलियन डॉलर यानी 9,800 करोड़ रुपये के कर्ज को लेकर भारी संकट का सामना कर रही एडटेक कंपनी बायजू (Byju's) में छंटनी का नया दौर शुरू हो चुका है. कंपनी ने करीब 1,000 स्थायी कर्मियों को निकालने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

मामले की जानकारी रखने वाले एक व्यक्ति ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि एडटेक कंपनी (Byju's) इस बार ट्रेनिंग, सेल्स, फाइनेंस और लॉजिस्टिक जैसे डिपार्टमेंट्स में कटौती कर रही है.

1,000 कर्मचारियों की छंटनी के प्लान के बारे में सबसे पहले 'द मॉर्निंग कॉन्टेक्स्ट' ने करीब दो हफ्ते पहले रिपोर्ट किया था.

कर्ज को लेकर कानूनी लड़ाई जारी

1.2 बिलियन डॉलर के कर्ज को लेकर बायजू, कर्जदाताओं के साथ कानूनी लड़ाई के बीच है. इसने कर्जदाताओं को 40 मिलियन डॉलर ब्याज का भुगतान नहीं किया है. कर्जदाता समूह ने कर्ज के भुगतान को लेकर बायजू को डेलावेयर कोर्ट में घसीटा है. वहीं दूसरी ओर बायजू ने कर्जदाता पर ही केस कर दिया है.

बायजू ने ब्याज का भुगतान करने की बजाय कर्जदाता समूह के एक एजेंट 'रेडवुड' को अयोग्य घोषित करने को लेकर न्यूयॉर्क सुप्रीम कोर्ट में शिकायत दर्ज कराई है. उसने रेडवुड पर 'शिकारी रणनीति' (Predatory Tactics) में लिप्त होने का आरोप लगाया है.

कर्ज को लेकर आगे क्या होगा?

Byju's ने कहा था कि वो सावधि ऋण पर कोई और भुगतान नहीं करेगा क्योंकि डेलावेयर और न्यूयॉर्क दोनों में कानूनी कार्यवाही चल रही है.

उसका कहना था, 'डेलावेयर और न्यूयॉर्क दोनों जगह कानूनी कार्यवाही चल रही है. इस तरह, हमसे पेमेंट की उम्मीद नहीं की जा सकती है. जब तक कि कोर्ट का फैसला नहीं आ जाता, हमने कर्जदाताओं को ब्याज समेत कोई पेमेंट नहीं करने का फैसला लिया है.

वहीं, दूसरी ओर कर्जदाताओं ने बायजू के मुकदमे को 'मेरिटलेस और बेसलेस' यानी तर्कहीन और आधारहीन बताया है. उनका कहना है कि बायजू इस तरह कर्ज के भुगतान से बचने का प्रयास कर रहा है.

कर्जदाता समूह का कहना है कि वो मुकदमे और अन्य विवादों के समाधान के लिए कंपनी के साथ बातचीत करने के लिए तैयार हैं. लेकिन वो Byju's के साथ अलग-अलग बैठक (one-on-one meeting) नहीं करेंगे. कर्जदाता चाहते हैं कि Byju's, कर्जदाताओं के समूह को एक ड्राफ्ट संशोधन प्रस्ताव भेजे.

पिछले साल की थी छंटनी की घोषणा

पिछले साल अक्टूबर में, कंपनी ने प्रॉफिटैबिलिटी टारगेट अचीव करने को लेकर 2,500 कर्मियों की छंटनी की घोषणा की थी. कंपनी ने कहा था कि अपने मार्केटिंग बजट को घरेलू स्तर पर कम करते हुए बायजू 'विदेशी बाजारों में ब्रांड जागरूकता बढ़ाने के लिए' खर्च करने को प्राथमिकता देगा.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT