ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

TCS के CEO राजेश गोपीनाथन ने इस्तीफा दिया, कृतिवासन संभालेंगे जिम्मेदारी

वे 15 सितंबर 2023 तक अपने पद पर रहेंगे. K कृतिवासन उनकी जगह अगले CEO बनेंगे.
NDTV Profit हिंदीमंगलम मिश्र
NDTV Profit हिंदी08:28 PM IST, 16 Mar 2023NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

TCS के CEO राजेश गोपीनाथन (Rajesh Gopinathan) ने इस्तीफा दे दिया है. वे 15 सितंबर 2023 तक अपने पद पर रहेंगे. K. कृतिवासन (K. Krithivasan) उनकी जगह अगले CEO बनेंगे. फरवरी 2017 से राजेश गोपीनाथन कंपनी के CEO का पद संभाल रहे थे.

राजेश गोपीनाथन के बारे में

NIT तिरुचिरापल्ली और IIM अहमदाबाद से शिक्षित, राजेश गोपीनाथन Tata Group लाइफर हैं यानी उन्होंने शुरुआत से अब तक का पूरा करियर टाटा के साथ ही गुजारा. उन्होंने टाटा स्ट्रैटेजिक मैनेजमेंट ग्रुप में अप्रैल 1996 में शुरुआत की. 2001 से उन्होंने TCS ज्वाइन की और 2013-17 तक CFO का पद संभाला. इसके बाद 2017 से 2023 तक कंपनी के CEO के पद पर काम किया.

अपने इस्तीफे पर उन्होंने कहा, 'TCS में अपने 22 साल के लंबे करियर को मैंने एंजॉय किया. मेरे लिए कंपनी के चेयरमैन N. चंद्रशेखरन के साथ काम करना सुखद था, जिन्होंने पूरे कार्यकाल के दौरान मुझे मेंटर किया. बतौर CEO, 6 साल तक इस बड़े संस्थान में काम करना मेरे लिए काफी संतोषदायी रहा. इस दौरान कंपनी का इंक्रीमेंटल रेवेन्यू $10 बिलियन तक बढ़ा और मार्केट कैपिटलाइजेशन $70 बिलियन से भी ज्यादा बढ़ा.'

राजेश गोपीनाथन के कार्यकाल में कंपनी की रेवेन्यू ग्रोथ

राजेश गोपीनाथन के कार्यकाल में कंपनी की मार्केट कैप ग्रोथ

कौन हैं K कृतिवासन, जो बनेंगे TCS के अगले CEO

K. कृतिवासन, फिलहाल TCS में बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज और इंश्योरेंस बिजनेस ग्रुप के प्रेसिडेंट और ग्लोबल हेड हैं. कृतिवासन को ग्लोबल टेक्नोलॉजी में करीब 34 साल का अनुभव है और वो कंपनी में 1989 से काम कर रहे हैं. उन्होंने TCS में डिलीवरी, कस्टमर रिलेशनशिप मैनेजमेंट, लार्ज प्रोग्राम मैनेजमेंट और सेल्स में लीडरशिप भूमिकाएं निभाईं हैं.

इसके साथ ही वो डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन, ऑप्टिमाइजेशन और IT प्रोग्राम गवर्नेंस को स्थापित करने में अहम जिम्मेदारी संभाल चुके हैं.

उन्होंने मद्रास यूनिवर्सिटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बैचलर डिग्री हासिल की. इसके साथ ही उनके पास IIT कानपुर से इंडस्ट्रियल एंड मैनेजमेंट इंजीनियरिंग की भी मास्टर्स डिग्री है.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT