ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

'Byju's को बच्चों की परवाह नहीं, डराकर बेचते हैं कोर्स', हंसल मेहता और नीलेश मिसरा ने उठाई आवाज

हंसल मेहता ने खुद का अनुभव शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा कि Byju's के सेल्स पर्सन ने उनकी बेटी को चंद पैसे के लिए डराकर कोर्स बेचने की कोशिश की.
NDTV Profit हिंदीसुदीप्त शर्मा
NDTV Profit हिंदी02:16 PM IST, 29 Jun 2023NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

स्कैम, बीमारी, विलेन, मॉन्सटर, जीरो....ये हैं सोशल मीडिया पर लोगों के दिए वो चुनिंदा नाम जो इन दिनों एड-टेक कंपनी Byju's के लिए इस्तेमाल किए जा रहे हैं.

जिन्होंने कंपनी की बिजनेस प्रैक्टिसेज से लेकर वैल्यूएशंस तक को कठघरे में खड़ा किया है, उनमें आम लोगों से लेकर फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोग और एंटरप्रेन्योर्स तक शामिल हैं.

स्कैम सीजन 4 की कहानी?

जाने-माने फिल्ममेकर और हालिया रिलीज सीरीज Scoop के डायरेक्टर हंसल मेहता (Hansal Mehta) ने 28 जून को ट्वीट कर कंपनी के तौर-तरीकों पर सवाल उठाए. मामला सीधे उनकी बेटी से जुड़ा हुआ है.

हंसल मेहता ने ट्विटर पर लिखा, 'कोविड के दौरान Byju's से लोग मेरी बेटी को प्रोग्राम बेचने आए थे, तभी मैंने इस पर सवाल खड़े किए थे. दरअसल इन कोर्सेज की मेरी बेटी को कोई जरूरत नहीं थी. उन्होंने चंद पैसे कमाने के लिए मेरी बेटी को ये समझाने की कोशिश की कि वो एकेडमिक्स में अच्छी नहीं है. मुझे उन्हें मेरे घर से निकालना पड़ा. तथाकथित 'रंक से राजा' बनने की कहानियों का मजाक बनाने के लिए मेरी आलोचना की गई. गाली-गलौज के चलते मुझे वो ट्वीट डिलीट करने पड़े. अब जब इनके ताश के पत्तों का महल बिखर रहा है, तो सभी को याद दिलाने की जरूरत है कि 'रंक से राजा' के सफर की हर कहानी नेक इरादों और सच्ची जीत की कहानियां नहीं होतीं.'

बता दें कि Scam 1992 के डायरेक्टर, हंसल मेहता ने 2 साल पहले भी Byju's को पूरी तरह फर्जीवाड़ा करार दिया था. उन्होंने लिखा था- ये स्कैम सीजन 4 के लिए मैटेरियल है.

'बच्चों की परवाह नहीं'

गीतकार-कहानीकार-लेखक नीलेश मिसरा (Neelesh Misra) ने ट्वीट कर कहा कि कंपनी के फाउंडर बायजू रवींद्रन (Byju Raveendran) और WhiteHat Jr. के करन बजाज बच्चों की परवाह नहीं करते. उन्होंने इसे लेकर एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा,

'Byju's और WhiteHat Jr, रवींद्रन और करन बजाज आपके बच्चों के साथ ये कर रहे हैं. वो आपके बच्चों की परवाह नहीं करते.

'कंपनी ने शुरू की बीमारी'

बता दें इससे पहले भी नीलेश मिसरा कंपनी के तरीकों पर सवाल उठाते रहे हैं. 16 सितंबर, 2021 को उन्होंने एक यूजर के ट्वीट को रीट्वीट करके लिखा था, 'Byju's और WhiteHad Jr की शुरू की हुई बीमारी पूरे बचपन, शिक्षा और बच्चों का निर्माण करने वाली रचनात्मकता को निगल रही है. सरकार को इस पर एक्शन लेना चाहिए.' यूजर ने एक विज्ञापन ट्वीट किया था जिसमें ग्रेड 1-4 तक के बच्चों के लिए कोडिंग कंपटीशन का जिक्र था.

29 नवंबर 2021 को उन्होंने एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, 'Byju's और WhiteHat Junior के हर निवेशक को ये पढ़ना चाहिए और शर्म आनी चाहिए. आपने इस मॉन्सटर को बनाया है. इस तरह के बिजनेस और डर को बेच रहे हैं कि अगर उन्होंने कोडिंग नहीं की, तो वो असफल हो जाएंगे. मैं सरकार से मांग करता हूं कि इस तरह के 'एडटेक स्केवेंजर्स' के खिलाफ तेजी से कड़ी कार्रवाई करें.'

दरअसल नीलेश ने निधि बहुगुणा नाम के एक यूजर का ट्वीट रिट्वीट किया था, जिसमें फ्री प्रोग्राम के बहाने गरीब लोगों से गलत ढंग से उनकी अकाउंट डिटेल लेने और लोन फॉर्म पर साइन करवाने के आरोप थे. निधि ने बताया कि उनकी जिस हाउस हेल्प के साथ Byju's के सेल्समैन ने ये काम किया, उसकी मासिक आमदनी 10,000 रुपये ही थी. उसे विश्वास दिलाया गया था कि Byju's उसकी बच्ची को फ्री लैपटॉप और फ्री ट्यूशन देगी.

इससे पहले RPG एंटरप्राइजेज के चेयरमैन हर्ष गोयनका (Harsh Goenka) ने Byju's के वैल्यूएशन पर सवाल उठाए थे. उन्होंने एक ट्वीट में कंपनी की हालिया समस्याओं को उठाते हुए कहा था कि अगर ये सब सच है तो कंपनी का सही वैल्यूएशन क्या है?

कुछ दिन पहले एंटरप्रेन्योर रॉनी स्क्रूवाला (Ronnie Screvala) ने भी Byju's द्वारा अमेरिका में कर्जदाताओं पर मुकदमा किए जाने को 'ड्रामा' करार दिया था. उन्होंने कहा था कि कंपनी विदेश में भारत का नाम खराब कर रही है.

ट्विटर से लेकर इंस्टाग्राम तक, कंपनी के विरोध की आवाजें लगातार मुखर हो रही हैं. इसमें हर तबके के लोग शामिल हैं. Byju's के फाउंडर कभी टाउनहॉल के जरिए तो कभी शेयरहोल्डर्स से बात करके चीजें पटरी पर लाने की कोशिश तो कर रहे हैं, लेकिन अपने ग्राहकों की तकलीफों और आवाजों पर सीधे तौर पर ध्यान देने की कोशिशें फिलहाल नजर नहीं आतीं.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT