ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

पेटीएम को झटका! मैक्वायरी ने किया डाउनग्रेड, शेयर सबसे निचले स्तर पर पहुंचा

मैक्वायरी ने 'Fighting for survival' नाम से ताजा रिपोर्ट निकाली है. जिसमें ब्रोकरेज हाउस ने पेटीएम का टारगेट प्राइस 650 रुपये से घटाकर सीधा 275 रुपये कर दिया है
NDTV Profit हिंदीमोहम्मद हामिद
NDTV Profit हिंदी09:27 AM IST, 13 Feb 2024NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

पेटीएम (Paytm) और उसके निवेशकों के लिए मुश्किलों का दौर अभी और लंबा चलने वाला है. ब्रोकरेज हाउस मैक्वायरी (Macquarie Equity Research) ने पेटीएम की पेरेंट कंपनी वन 97 कम्यूनिकेशंस (One 97 Communications Ltd.) को डाउनग्रेड करके 'underperform' में डाल दिया है. साथ ही इसका टारगेट प्राइस भी घटा दिया है.

मैक्वायरी के इस डाउनग्रेड का असर बाजार खुलते ही पेटीएम के शेयर पर भी दिखा और ये ऑल टाइम लो पर पहुंच गया.

पेटीएम के लिए 'अस्तित्व की लड़ाई'

मैक्वायरी ने अपनी ताजा रिपोर्ट 'Fighting for survival' नाम से निकाली है. जिसमें ब्रोकरेज हाउस ने पेटीएम का टारगेट प्राइस 650 रुपये से घटाकर सीधा 275 रुपये कर दिया है, जो कि सीधा सीधा 58% का कट है. इस रिपोर्ट में मैक्वायरी ने कहा है कि हालिया आदेशों के बाद, पेटीएम को ग्राहकों के पलायन के गंभीर खतरे का सामना करना पड़ रहा है, जो इसके मॉनेटाइजेशन और बिजनेस मॉडल को काफी खतरे में डाल रहा है. पेटीएम के पास इस वक्त 33 करोड़ ग्राहक हैं जिसमें से 11 करोड़ मंथली ट्रांजैक्टिंग यूजर्स (MTU) हैं. कंपनी के पास 1 करोड़ मर्चेंट्स का कुनबा भी है.

पेटीएम पर मैक्वायरी की रिपोर्ट

  • टारगेट प्राइस 650 रुपये से घटाकर 275 रुपये, 58% की बड़ी कटौती

  • ग्राहकों के छोड़कर जाने के गंभीर खतरे का सामना करना पड़ रहा है

  • ग्राहकों के छोड़ने से मॉनेटाइजेशन, बिजनेस मॉडल पर भी बड़ा खतरा

  • 33 करोड़ ग्राहक, 11 करोड़ मंथली ट्रांजैक्टिंग यूजर्स (MTU)

  • इस वक्त 1 करोड़ से ज्यादा मर्चेंट्स पेटीएम से जुड़े हैं

मैक्वायरी ने लिखा है कि हम आय में भी तेज कटौती कर रहे हैं, क्योंकि हम पेमेंट्स और डिस्ट्रीब्यूशन बिजनेस आय दोनों में ही FY25/26E के दौरान 60-65% तक की कटौती देख रहे हैं. पेमेंट बैंक ग्राहकों को दूसरे बैंक के अकाउंट में ट्रांसफर करना या मर्चेंट अकाउंट्स को किसी दूसरे बैंक अकाउंट्स में ट्रांसफर करने के लिए पार्टनर्स के साथ हमारे चैनल चेक्स के आधार पर फिर से KYC कराने की जरूरत होगी, जो कि ये दर्शाता है कि ये काम रिजर्व बैंक की दी गई डेडलाइन 29 फरवरी तक ऐसा कर पाना एक बहुत मुश्किल काम होगा.

पेटीएम पर मैक्वायरी की रिपोर्ट

  • हम पेमेंट्स और डिस्ट्रीब्यूशन बिजनेस आय दोनों में ही कटौती देख रहे हैं

  • दोनों में ही FY25/26E के दौरान 60-65% तक की कटौती देख रहे हैं

  • पेमेंट बैंक ग्राहकों को दूसरे बैंक में ट्रांसफर करना आसान नहीं होगा

  • इन करोड़ों ग्राहकों को फिर से KYC कराने की जरूरत होगी

  • 29 फरवरी तक ऐसा कर पाना एक बहुत मुश्किल काम होगा

कुछ लेंडिंग पार्टनर्स के साथ हमारी जांच में ये सामने आया है कि वो पेटीएम के साथ अपने रिश्तों की समीक्षा कर रहे हैं, जिससे लेंडिंग बिजनेस में गिरावट आ सकती है, क्योंकि ये लेंडिंग पार्टनर्स पेटीएम के साथ अपने रिश्तों को खत्म कर सकते हैं या फिर उसमें कटौती कर सकते हैं. ए बी कैपिटल जो कि पेटीएम के सबसे बड़े लेंडिंग पार्टनर्स में से एक है, उसने पहले ही पेटीएम में अपने BNPL एक्सपोजर को 2000 करोड़ रुपये से घटाकर 600 करोड़ रुपये कर दिया है, और हमारा अनुमान है कि ये और भी कम हो सकता है.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT