ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

वो वजहें, जिनके चलते RBI ने Paytm पेमेंट्स बैंक पर की बड़ी कार्रवाई!

बीते 2 दिन में शेयर 36% तक टूटा है. RBI के एक्शन के बाद शेयर के मार्केट कैप में 17,400 करोड़ रुपये साफ हो गए.
NDTV Profit हिंदीNDTV Profit डेस्क
NDTV Profit हिंदी07:34 PM IST, 02 Feb 2024NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

पेटीएम (Paytm) शेयर पर 2 दिन पहले RBI ने बड़ा एक्शन लिया था. 31 जनवरी को RBI ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक (Paytm Payments Bank) पर बड़ी कार्रवाई करते हुए 29 फरवरी के बाद डिपॉजिट लेने पर पाबंदी लगा दी थी. 31 जनवरी की शाम को फैसला आया और 1 फरवरी को शेयर सीधा 20% टूटा. 2 फरवरी को भी यही हाल रहा और शेयर 20% के लोअर सर्किट पर बंद हुआ.

लेकिन RBI के इस कड़े एक्शन की वजह क्या रही?

NDTV Profit को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, बैंक रेगुलेटर RBI को पेटीएम पेमेंट्स बैंक के कामकाज में कई मूलभूत कमियां मिलीं हैं. एक जगह तो नो योर कस्टमर (KYC) का काम ठीक से पूरा नहीं किया गया, जिसके चलते मनी लॉन्ड्रिंग जैसे खतरे को लेकर चिंताएं बढ़ीं. इसके साथ ही, RBI को करीब 1,000 ऐसे यूजर्स मिले, जिन्होंने एक ही PAN कार्ड से रजिस्टर किया हुआ था.

ऐसे यूजर्स ने करोड़ों रुपये के ट्रांजैक्शन किए हुए थे, जिसके चलते RBI के लिए पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर कड़ी कार्रवाई करना जरूरी हो गया.

क्या रहीं अन्य वजहें?

पेटीएम पेमेंट्स बैंक और होल्डिंग कंपनी वन 97 कम्युनिकेशंस के बीच नियमों का पालन किया जाना जरूरी है.

NDTV Profit को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, RBI की जांच में पाया गया कि होल्डिंग कंपनी वन 97 कम्युनिकेशंस और पेटीएम पेमेंट्स बैंक के बीच फाइनेंशियल और नॉन-फाइनेंशियल बिजनेस किया गया. इसके साथ ही, एक सीमित दूरी, जो प्रोमोटर्स ग्रुप के साथ बनाकर रखनी चाहिए, उसका भी ख्याल नहीं रखा गया. जहां तक बात रही डेटा प्राइवेसी की, तो पेरेंट ऐप के साथ किए गए ट्रांजैक्शन से डेटा प्राइवेसी पर भी संकट के बादल मंडराने लगे, जिसके चलते RBI को ये कड़ा कदम उठाना पड़ा.

क्या रहा घटनाक्रम?

31 जनवरी

31 जनवरी को RBI ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर नोटिस जारी किया. इसके मुताबिक, 29 फरवरी के बाद से कोई भी यूजर पेटीएम पेमेंट्स बैंक में अपने पैसे डिपॉजिट नहीं कर पाएगा. हालांकि, इसके ग्राहकों को पैसे निकालने की इजाजत मिलेगी.

1 फरवरी

1 फरवरी को कंपनी ने इस मुद्दे पर कॉनकॉल की. कंपनी ने बताया कि वो थर्ड पार्टी बैंकों से इस पर करार करेगी. उन्होंने कहा कि हम दूसरे बैंकों के साथ संपर्क कर रहे हैं.

29 फरवरी से पहले रीपेमेंट और सेटलमेंट का काम पूरा करने के लिए 30,000 लोगों की सेल्सफोर्स ग्राउंड पर मौजूद है. कंपनी ने ये भी साफ किया कि पेमेंट गेटवे मौजूदा मर्चेंट्स को पेमेंट सॉल्यूशंस मुहैया कराती रहेगी.

पेटीएम QR, पेटीएम साउंडबॉक्स, पेटीएम कार्ड जैसी मशीनों की सर्विसेज आगे की तरह ही जारी रहेंगी. इसके लिए QR कोड का वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (VPA) अन्य स्पॉन्सर्ड बैंक में बदल दिया जाएगा.

कंपनी ने बताया कि आने वाले कुछ हफ्तों के लिए वो नया लोन नहीं ले रहे हैं.

2 फरवरी

वो वजहें, जिनके चलते RBI ने कंपनी पर एक्शन लिया.

पेटीएम शेयर का परफॉर्मेंस?

पेटीएम का इश्यू प्राइस 2,150 रुपये था. आज यानी शुक्रवार 2 फरवरी को कारोबार बंद होने पर शेयर का भाव 487.20 रुपये पर पहुंच गया, जो कि इश्यू प्राइस से 77% नीचे है.

बीते 2 दिन की बात करें, तो पेटीएम शेयर के मार्केट कैप में गुरुवार को 9,662 करोड़ रुपये और शुक्रवार को 7,332 करोड़ रुपये की कमी आई है.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT