ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

"PMC के छोटे जमाकर्ता अपना पैसा निकाल सकते हैं": यूनिटी स्मॉल फाइनेंस बैंक

यूएसएफबी ने कहा कि वह विलय की व्यवस्था के तहत पीएमसी बैंक के सभी जमाकर्ताओं की पूरी मूल राशि लौटाएगा. पांच लाख रुपये तक की जमा वाले ग्राहकों की संख्या 96 प्रतिशत बैठती है.
NDTV Profit हिंदीNDTV Profit Desk
NDTV Profit हिंदी01:05 PM IST, 28 Jan 2022NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

हाल में संकटग्रस्त पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक (Punjab And Maharashtra Co Operative Bank) का अधिग्रहण करने वाले यूनिटी स्मॉल फाइनेंस बैंक (Unity Small Finance Bank) ने कहा है कि पीएमसी के पांच लाख रुपये तक के छोटे जमाकर्ता अपना पूरा पैसा अभी निकाल सकते हैं. इसके अलावा जमाकर्ता अपनी जमा को नए बैंक में रख सकते हैं जिसपर उन्हें वार्षिक सात प्रतिशत का ब्याज मिलेगा. यूएसएफबी ने बृहस्पतिवार को कहा कि पीएमसी बैंक के छोटे जमाकर्ताओं की संख्या 96 प्रतिशत है. इससे पहले वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने 25 जनवरी को पीएमसी बैंक के यूएसएफबी में विलय को मंजूरी दी थी. इससे पीएमसी बैंक को परिसमापन से संरक्षण मिल गया है और साथ ही सभी हितधारकों ने राहत की सांस ली है. 

यूनिटी स्मॉल फाइनेंस बैंक ने कहा है कि विलय वाले बैंक की करीब 110 शाखाएं और 1,100 से अधिक कर्मचारी अब नए लेबल के तहत काम करेंगे. 

यूएसएफबी ने कहा कि वह विलय की व्यवस्था के तहत पीएमसी बैंक के सभी जमाकर्ताओं की पूरी मूल राशि लौटाएगा. पांच लाख रुपये तक की जमा वाले ग्राहकों की संख्या 96 प्रतिशत बैठती है.

यूएसएफबी ने कहा कि जमा बीमा एवं ऋण गारंटी निगम नियमों की जरूरतों को पूरा करने के साथ पांच लाख रुपये तक की जमा वाले ग्राहकों का भुगतान अग्रिम में किया जाएगा. हालांकि, जो ग्राहक नए बैंक में अपनी जमा रखना चाहते हैं उन्हें सालाना सात प्रतिशत का ब्याज दिया जाएगा.

इसके अलावा संस्थागत जमाकर्ताओ को उनकी जमा के 80 प्रतिशत के बराबर तरजीही शेयर मिलेंगे और शेष 20 प्रतिशत के लिए इक्विटी शेयर वॉरंट दिए जाएंगे. यूनिटी के आईपीओ के समय ये वॉरंट इक्विटी शेयरों में तब्दील हो जाएंगे. 

NDTV Profit हिंदी
लेखकNDTV Profit Desk
NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT