ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

चोरी या खोया हुआ मोबाइल चुटकियों में होगा ब्लॉक और ट्रैक! सरकार लॉन्च करेगी नया पोर्टल

मोबाइल खो जाने या चोरी होने की टेंशन अब आपको नहीं करनी होगी. क्योंकि सरकार ने इसका फूलप्रूफ इंतजाम कर दिया है. बस लॉन्च की तैयारी है.
NDTV Profit हिंदीमोहम्मद हामिद
NDTV Profit हिंदी11:58 AM IST, 15 May 2023NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

मोबाइल खो जाने या चोरी होने पर अब आपको घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि सरकार अब एक ऐसा ट्रैकिंग सिस्टम लेकर आने वाली है, जिससे खोए हुए मोबाइल को आप खुद ब्लॉक कर सकेंगे और सरकार उसको ट्रैक भी करेगी और मोबाइल दोबारा मिलने के बाद उसको आप इस्तेमाल भी कर सकेंगे.

17 मई को लॉन्च संभव

PTI की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस मोबाइल ब्लॉक और ट्रैकिंग सिस्टम को 17 मई को लॉन्च किया जा सकता है. दूरसंचार विभाग के एक अधिकारी ने पहचान का खुलासा नहीं करने की शर्त पर PTI को बताया कि इसके लिए विभाग ने सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेंटिटी रजिस्ट्री (CEIR) सिस्टम बनाया है. इस सिस्टम के लिए कुछ टेलीकॉम सर्कल्स में टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट बॉडी, सेंटर फॉर डिपार्टमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (CDoT) काफी समय से एक पायलट प्रोजेक्ट्स चला रही है. इन सर्कल्स में दिल्ली, महाराष्ट्र, कर्नाटक और नॉर्थ ईस्ट के क्षेत्र शामिल हैं. अब ये सिस्टम पूरे देश में लॉन्च के लिए तैयार है. अधिकारी ने बताया कि इस सिस्टम को 17 मई को पूरे देश में लॉन्च किया जाएगा.

खोया मोबाइल कर सकेंगे ब्लॉक और ट्रैक

सरकार जिस पोर्टल को 17 मई को लॉन्च करेगी उसका नाम है संचार साथी - www.sancharsaathi.gov.in. ये एक इंटीग्रेटेड सिटीजन सेंट्रिक वेब पोर्टल है, जो नागरिकों को कई तरह की सुविधा देगा. जैसे उनका मोबाइल फोन चोरी हो जाए तो वो उसे इस वेबसाइट पर जाकर ब्लॉक कर सकेंगे. जब मोबाइल ब्लॉक हो जाएगा तो सरकार उसको ट्रैक कर सकेगी और खोज सकेगी.

संचार साथी पोर्टल के ढेरों फायदे

इसके अलावा संचार साथी पोर्टल पर यूजर्स को अपने मोबाइल नंबर और फोन से जुड़ी दूसरी कई और जानकारियां भी मिल सकेंगी.

  • उनके नाम से कितने मोबाइल कनेक्शन इश्यू हुए हैं.

  • यूजर्स गैर-जरूरी कनेक्शन को बंद करवा सकता है.

  • कोई भी नया या पुराना मोबाइल खरीदते वक्त उसकी असलियता यानी 'genuineness' का भी पता लगा सकता है.

  • मोबाइल असली है या नकली इसके लिए आप KYM ऐप का भी इस्तेमाल कर सकते हैं

संचार साथी में इसके लिए 2 मॉड्यूल हैं, जैसे- CEIR, TAFCOP

CEIR मॉड्यूल

इस मॉड्यूल के जरिए खोए हुए या चोरी मोबाइल को ट्रेस करने की सुविधा मिलती है. साथ ही यूजर्स खोए या चोरी मोबाइल को सभी टेलीकॉम ऑपरेटर्स के नेटवर्क पर ब्लॉक कर सकते हैं, ताकि उस मोबाइल का इस्तेमाल नहीं किया जा सके. अगर कोई भी ब्लॉक किए गए मोबाइल को इस्तेमाल करने की कोशिश करेगा तो ट्रेस एक्टिवेट हो जाएगा. जब मोबाइल मिल जाएगा तो उसको दोबारा अनब्लॉक करके यूजर इस्तेमाल कर सकता है.

TAFCOP मॉड्यूल

इस मॉड्यूल में कोई मोबाइल यूजर ये चेक कर सकता है कि उसके नाम से कितने मोबाइल कनेक्शन लिए गए हैं. अगर यूजर को लगता है कि कुछ कनेक्शन ऐसे हैं जो उसने नहीं लिए हैं, या फिर उसे उसकी जरूरत नहीं है, वो उसको बंद करवा सकता है या रिपोर्ट कर सकता है.

कैसे करें इस्तेमाल- स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस

इसके लिए सबसे पहले आपको https://www.sancharsaathi.gov.in/ पर जाना है.

नीचे आने पर आपको Citizen Centric Services दिखेगा

यहां आपको दो विकल्प मिलेंगे -

CIER - BLOCK YOUR LOST/STOLEN MOBILE

TAFCOP - KNOW YOUR MOBILE CONNECTION

खोया मोबाइल ब्लॉक करें-ट्रैक करें

अगर आपको खोए हुए मोबाइल को ब्लॉक करना है तो CIER पर क्लिक करेंगे तो एक नया पेज खुलेगा. इस पेज पर आपको LOST/STOLEN मोबाइल का विकल्प मिलेगा. इसको क्लिक करते ही एक पेज ओपेन होगा, जिसमें आपको कई जानकारियां भरनी होगीं. जैसे- मोबाइल नंबर, IMEI नंबर, डिवाइस मॉडल, डिवाइस ब्रैंड, मोबाइल का बिल, मोबाइल कहां गुम हुआ, कब गुम हुआ, पुलिस कम्प्लेन नंबर वगैरह.

ये सारी जानकारियां भरने के बाद आपको सबमिट करना है. इसके बाद सरकार आपके मोबाइल की ट्रैकिंग शुरू कर देगी.

आपके नाम पर कितने फोन कनेक्शन?

अगर आपको ये जानना है कि आपके नाम से कितने मोबाइल कनेक्शन हैं, तो इसके लिए आपको TAFCOP पर क्लिक करना होगा.

एक नया पेज खुलेगा, इसमें आपको 10 डिजिटल का मोबाइल नंबर डालना है.

कैप्चा डालकर भरेंगे तो OTP आएगा और फिर लॉग इन करने के बाद आपको इसकी डिटेल मिल जाएगी.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT