ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

2024 में भारतीय बाजार में आ सकती है अस्थिरता, मॉर्गन स्टैनली ने चुनाव समेत बताईं कई वजह

ब्रोकरेज फर्म आगे कहती है, 'लेकिन भारत में निवेश के पक्ष में बेहतर अर्निंग्स, मैक्रो स्टेबिलिटी और डोमेस्टिक फ्लो जैसी चीजें भी हैं.'
NDTV Profit हिंदीNDTV Profit डेस्क
NDTV Profit हिंदी04:28 PM IST, 13 Nov 2023NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

भारतीय इक्विटी बाजार (Indian Equity Market) के लिए 2024 एक अस्थिर साल साबित हो सकता है. मॉर्गन स्टैनली (Morgan Stanley) के मुताबिक अब जब निवेशक लोकसभा चुनावों के नतीजों का इंतजार और दूसरे मैक्रो फैक्टर्स की मॉनिटरिंग कर रहे हैं, तो इस बीच उथल-पुथल हो सकती है.

क्यों उभरते हुए बाजारों से बेहतर स्थिति में है इंडियन मार्केट?

ब्रोकरेज फर्म आगे कहती है, 'लेकिन भारत में निवेश के पक्ष में बेहतर अर्निंग्स, मैक्रो स्टेबिलिटी और डोमेस्टिक फ्लो जैसी चीजें भी हैं.'

उभरते हुए दूसरे बाजारों की तुलना में भारतीय स्टॉक्स की अस्थिरता को कुछ दूसरे फैक्टर्स भी कम करते हैं. इनमें मैक्रोइकोनॉमिक स्टेबिलिटी, अगले 4-5 सालों में सालाना 20% ग्रोथ की उम्मीद और डोमेस्टिक रिस्क कैपिटल के विश्वसनीय स्त्रोत की उपलब्धता शामिल हैं.

ब्रोकरेज ने आगे मैक्रो स्टेबिलिटी के बारे में कहा, 'देश में निवेश मल्टीपोलर वर्ल्ड के विचार के चलते निवेश आ रहा है. इससे पेमेंट सरप्लस के बैलेंस और डोमेस्टिक लिक्विडिटी में इजाफा हो सकता है. इसलिए इंडियन इक्विटी मार्केट्स में रिटर्न का तेल की कीमतों, फेड फंड रेट में बदलाव और अमेरिकी ग्रोथ से संबंध तुलनात्मक तौर पर कम है.'

फिर उभरते हुए बाजारों से भारत का बीटा 0.4 से भी कम है. अमेरिका के साथ भारत के Rate Spread में भी कमी आई है. जिसके चलते भारत में रिटर्न बेहतर है.

अस्थिरता पर चुनाव का असर

ब्रोकरेज फर्म ने कहा, 'हमारा अनुमान है कि BSE सेंसेक्स अर्निंग सालाना 21.5% की दर से वित्त वर्ष 2026 तक बढ़ेगी. हमारे आधार में 2024 की संभावित अस्थिरता भी शामिल है.

मॉर्गन स्टैनली ने कहा, 'हमारे आधार का अनुमान (Case Base) है कि 2024 के चुनाव के दौरान इक्विटीज में बढ़ोतरी ही होगी, क्योंकि बाजार एक बहुमत की सरकार और निरंतरता में यकीन करेगा.'

ब्रोकरेज फर्म आगे कहती है, 'लेकिन 5 राज्यों में BJP के हारने से अस्थिरता बढ़ सकती है. अतीत में तेल की कीमतों से देश पर बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ा है, लेकिन 110 डॉलर का रेट दिक्कतें पैदा कर सकता है.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT