ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

अदाणी एंटरप्राइजेज में 'BUY' रेटिंग और 51% रिटर्न का अनुमान; कैंटोर फिट्जगेराल्ड क्यों है इतना बुलिश

ब्रोकरेज का कहना है 'भारत को 2030 तक तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए ऊर्जा उत्पादन और खपत बढ़ाने के साथ साथ फिजिकल और इंफ्रास्ट्रक्चर दोनों में निवेश करने की जरूरत है
NDTV Profit हिंदीमोहम्मद हामिद
NDTV Profit हिंदी12:57 PM IST, 30 Jan 2024NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

'अदाणी ग्रुप की कंपनी फ्लैगशिप कंपनी अदाणी एंटरप्राइजेज भारत की महत्वाकांक्षाओं का केंद्र है'. ये कहना है अमेरिकी स्थित ब्रोकरेज फर्म कैंटोर फिट्जगेराल्ड एंड कंपनी का.

ब्रोकरेज फर्म के एनालिस्ट ब्रेट नॉब्लॉश और थॉमस शिंस्के ने एक नोट में लिखा है कि भारत जो कुछ भी पाना चाहता है, उसके मूल में अदाणी ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी अदाणी एंटरप्राइजेज है. दोनों एनालिस्ट ने कंपनी को 'ओवरवेट' की रेटिंग दी है, इनका कहना है कि मौजूदा स्तरों पर 'रिस्क रिवॉर्ड' काफी आकर्षक हैं.

नोट में ब्रोकरेज ने लिखा है कि हम मानते हैं कि भारत को अदाणी की जरूरत है, उतनी ही जितना अदाणी को भारत की जरूरत है.

51% अपसाइड रिटर्न का अनुमान

कैंटोर फिट्जगेराल्ड ने अदाणी एंटरप्राइजेज के लिए प्राइस टारगेट 4,368 रुपये रखा है, जो कि 25 जनवरी, गुरुवार की क्लोजिंग 2,894.55 रुपये से 51% ऊपर है.

ब्रोकरेज का कहना है 'भारत को 2030 तक तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए ऊर्जा उत्पादन और खपत बढ़ाने के साथ साथ फिजिकल और इंफ्रास्ट्रक्चर दोनों में निवेश करने की जरूरत है. हमारा मानना ​​है कि भारत जो कुछ भी हासिल करना चाहता है, उसके मूल में अदाणी एंटरप्राइजेज है'. ब्रोकरेज को उम्मीद है कि, चूंकि अदाणी एंटरप्राइजेज एक सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली इनक्यूबेटर है, इसलिए कई मौजूदा बिजनेस सेगमेंट अलग हो जाएंगे.

ब्रोकरेज का कहना है कि हम ये भी मानते हैं कि इन तीन सेगमेंट्स - एयरपोर्ट्स, सड़कों और नई ऊर्जा - के लिए हमारे टारगेट मल्टीपल लक्ष्य वाजिब हैं. क्योंकि हम अपने टारगेट मल्टीपल्स को तय करने के लिए करीबी समकक्ष कंपनियों का इस्तेमाल करते हैं, और उसके संबंधित सेगमेंट के लिए अपने करीबी समकक्षों से आगे निकलने की हमारी उम्मीदों के आधार पर उन मल्टीपल को प्रीमियम दिया है. ब्रोकरेज के एनालिस्ट्स ने अपने नोट में लिखा है 'इसका मतलब ये हुआ कि शेयरहोल्डर्स को हमारी नजर में बाकी के 6 बिजनेस बिल्कुल मुफ्त में मिल रहे हैं'.

तीन बिजनेस से आता है वैल्युएशन

ब्रोकरेज के मुताबिक, मौजूदा वैल्युएशन सभी हिस्सों को नहीं दर्शाता है. वैल्युएशन खास तौर पर तीन मुख्य बिजनेस से निकलकर आता है.

  1. एयरपोर्ट (₹1,622/शेयर)

  2. सड़क (₹1,525/शेयर)

  3. सोलर, विंड और इलेक्ट्रोलाइजर्स (₹1,511/शेयर)

ब्रोकरेज ने अदाणी एंटरप्राइजेज के लिक्विडिटी रिस्क को कम करने, गवर्नेंस में सुधार और पारदर्शिता बढ़ाने के लिए उठाए गए कदमों की ओर इशारा किया. उसने कहा 'इस वक्त हमारी राय में अदाणी इतना विशाल है कि उसको नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है.'

ब्रोकरेज ने नोट में अदाणी एंटरप्राइजेज की अपनी बैलेंस शीट को साफ करने की कोशिशों को भी सराहा है. ब्रोकरेज ने कहा 'फिक्स्ड एसेट्स के प्रतिशत के रूप में शुद्ध कर्ज FY21 में 51.6% से गिरकर FY24 की पहली छमाही में 35.5% हो गया है'.

एबिटा के प्रतिशत के रूप में वित्त लागत FY22 में 53.5% से गिरकर TTM आधार पर 38.7% हो गई है; और नेट डेट/एबिटा FY21 में 5.2 गुना से बढ़कर चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में 2.2 गुना हो गया है.

ब्रोकरेज का कहना है कि हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले वर्षों में एबिटा मार्जिन और FFO मार्जिन दोनों में सुधार जारी रहेगा क्योंकि यूटिलाइजेशन रेट में ग्रोथ रहेगी और इनक्यूबेटिंग बिजनेस ज्यादा मैच्योर होंगे, इससे AEL की बाहरी पूंजी पर निर्भरता कम होगी.

एयरपोर्ट बिजनेस का डीमर्जर

कैंटोर ने अदाणी एयरपोर्ट डीमर्जर को लेकर कहा है कि हमारा भरोसा है कि अगला बिजनेस जो अलगा होगा वो एयरपोर्ट बिजनेस होगा. एक बार जब नवी मुंबई एयरपोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा और कामकाज चालू हो जाएगा, अदाणी एंटरप्राइजेज एयरपोर्ट बिजनेस को अलग करने के बारे में विचार करना शुरू कर देगा. अनुमानित यात्रियों की ग्रोथ 21.2% के CAGR रहेगी. प्रति यात्री आय 5.1% CAGR से बढ़ेगी. FY24E से FY26E तक आय 27.5% CAGR से बढ़ेगी. अदाणी ग्रुप देश में 8 एयरपोर्ट्स का संचालन करता है, जो कि एयरलाइन पैसेंजर ट्रैफिक का 25% और कार्गो का 33% कवर करता है. अगर किसी के पास अदाणी एंटरप्राइजेज (AEL) का 5% है, AEL अपने एयरपोर्ट बिजनेस को अलग कर देता है, तब निवेशक के पास एयरपोर्ट बिजनेस में 5% हिस्सा होगा.

  • कैंटोर ने अदाणी एयरपोर्ट डीमर्जर को लेकर कहा है कि

  • हमारा भरोसा है कि अगला बिजनेस जो अलगा होगा वो एयरपोर्ट बिजनेस होगा.

  • एक बार जब नवी मुंबई एयरपोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा और कामकाज चालू हो जाएगा

  • अदाणी एंटरप्राइजेज एयरपोर्ट बिजनेस को अलग करने के बारे में विचार करना शुरू कर देगा

  • अनुमानित यात्रियों की ग्रोथ 21.2% के CAGR रहेगी, प्रति यात्री आय 5.1% CAGR से बढ़ेगी

  • FY24E से FY26E तक आय 27.5% CAGR से बढ़ेगी.

अदाणी ग्रुप देश में 8 एयरपोर्ट्स का संचालन करता है, जो कि एयरलाइन पैसेंजर ट्रैफिक का 25% और कार्गो का 33% कवर करता है. अगर किसी के पास अदाणी एंटरप्राइजेज (AEL) का 5% है, AEL अपने एयरपोर्ट बिजनेस को अलग कर देता है, तब निवेशक के पास एयरपोर्ट बिजनेस में 5% हिस्सा होगा.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT