ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

पेटीएम के खिलाफ कार्रवाई पर एकजुट हुए फिनटेक फाउंडर्स; लिखी PM, FM, RBI को चिट्ठी

फाउंडर्स ने कहा कि हम भारतीय इकोनॉमी में पेटीएम के योगदान को कम करके नहीं आंक सकते. एक भरोसेमंद घरेलू ब्रैंड के रूप में, पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने लाखों भारतीयों को जरूरी पेमेंट सर्विसेज के साथ सशक्त बनाया है.
NDTV Profit हिंदीमोहम्मद हामिद
NDTV Profit हिंदी10:21 AM IST, 06 Feb 2024NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

पेटीएम (Paytm) पर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की कार्रवाई के बाद देश की बाकी फिनेटक कंपनियों में हलचल है. इसलिए देश की फिनटेक कंपनियों के फाउंडर्स ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को एक चिट्ठी लिखकर इस कार्रवाई पर फिर से विचार करने की अपील की है. NDTV प्रॉफिट के पास इस लेटर की कॉपी है. हालांकि इस चिट्ठी पर किसी भी फाउडंर्स के दस्तखत नहीं हैं और न ही किसी का नाम है.

'इस कठोरता भरे फैसले पर विचार करने की जरूरत'

फिनटेक फाउंडर्स ने अपनी इस चिट्ठी में लिखा है कि हम वित्तीय स्थिरता और उपभोक्ता संरक्षण को सुरक्षित करने के लिए रिजर्व बैंक की भूमिका की सराहना करते हैं, लेकिन हम ये मानते हैं कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक के खिलाफ की गई दंडात्मक कार्रवाई के दूरगामी और नुकसान पहुंचाने वाली नतीजे हो सकते हैं.

चिट्ठी में फाउंडर्स लिखते हैं कि 'हम खासतौर पर पेटीएम बैंक पर मौजूदा रेगुलेटरी निर्देश के संभावित असर को लेकर चिंतित हैं, जो कंपनी पर तत्काल प्रभाव से कहीं ज्यादा है.

फाउंडर्स ने कहा कि रिजर्व बैंक का ये निर्देश पेटीएम पेमेंट्स बैंक के लाखों यूजर्स पर असर कर रहे हैं, और ग्राहकों और व्यापारियों के हितों की रक्षा के लिए इस तरह की कठोरता भरे फैसले पर फिर से विचार करने की जरूरत है.

फिनटेक फाउंडर्स ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि इसमें कोई शक नहीं है कि UPI की शानदार कामयाबी के पीछे फिनटेक कंपनियां ही रही हैं, चाहे वो यूजर-फ्रेंडली इंटरफेस बनाना हो और एक शक्तिशाली प्लेटफॉर्म के जरिए इनोवेशन की बात हो, फिनटेक ने UPI को दुनिया भर में कामयाबी दिलाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

इसमें कोई शक नहीं है कि UPI की शानदार कामयाबी के पीछे फिनटेक कंपनियां ही रही हैं, चाहे वो यूजर-फ्रेंडली इंटरफेस बनाना हो और एक शक्तिशाली प्लेटफॉर्म के जरिए इनोवेशन की बात हो, फिनटेक ने UPI को दुनिया भर में कामयाबी दिलाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.
- फिनटेक फाउंडर्स

'दुनिया भर में गलत संकेत जाएगा'

फाउंडर्स ने कहा कि हम भारतीय इकोनॉमी में पेटीएम के योगदान को कम करके नहीं आंक सकते. एक भरोसेमंद घरेलू ब्रैंड के रूप में, पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने लाखों भारतीयों को जरूरी पेमेंट सर्विसेज के साथ सशक्त बनाया है, खासतौर पर टियर 2 और टियर 3 शहरों में रहने वाले लोगों को. जबकि हम पेटीएम बैंक के साथ कुछ कंप्लायंस मुद्दों को देखते हैं तो हम रिजर्व बैंक से उसकी ओर से लगाए गए नियमों और उसके असर पर विचार करने की गुजारिश करते हैं.

चिट्ठी में फाउंडर्स लिखते हैं कि 'हम खासतौर पर पेटीएम बैंक पर मौजूदा रेगुलेटरी निर्देश के संभावित असर को लेकर चिंतित हैं, जो कंपनी पर तत्काल प्रभाव से कहीं ज्यादा है. ये कार्रवाई, जिसे हद से ज्यादा दंडात्मक माना जाता है, ग्लोबल बिजनेस कम्युनिटी को एक नकारात्मक संकेत भेज सकती है, जो भारत को एक बिजनेस फ्रेंडली देश के रूप में पेश करने के भारत सरकार के चल रही कोशिशों के बिल्कुल उलट है.

हम रिजर्व बैंक से अपने मौजूदा रुख पर फिर से विचार करने और फिनटेक उद्योग के साथ बातचीत करने की अपील करते हैं. फिनटेक कंपनियों के फाउंडर्स लिखते हैं कि - आइए हम एक रेगुलेटरी फ्रेमवर्क बनाने के लिए मिलकर काम करें जो जिम्मेदार इनोवेशन को बढ़ावा दे, उपभोक्ताओं की सुरक्षा करें और भारत के फिनटेक क्षेत्र को और भी अधिक ऊंचाइयों तक ले जाएं.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT