ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

US फेड ने ब्याज दर में नहीं किया बदलाव, लेकिन इस साल एक और बढ़ोतरी का दिया संकेत

अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने कहा कि आर्थिक गतिविधि मजबूती से बढ़ रही है. हाल के महीनों में नौकरियां मिलने की रफ्तार धीमी हुई है लेकिन मजबूती अब भी बनी हुई है
NDTV Profit हिंदीमोहम्मद हामिद
NDTV Profit हिंदी07:54 AM IST, 21 Sep 2023NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

अमेरिकी फेडरल रिजर्व (US Federal Reserve) ने बाजार और एनालिस्ट्स के अनुमानों के मुताबिक सितंबर की पॉलिसी में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. यानी अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने 5.25-5.5% की टार्गेट रेंज को बरकरार रखा है, लेकिन इस साल एक बढ़ोतरी का संकेत जरूर दे दिया है. 19 में से 12 फेड सदस्यों ने इस बात पर अपनी सहमति दी है कि इस साल एक और बढ़ोतरी की जानी चाहिए.

लंबे समय तक ऊंची रहेंगी ब्याज दरें

फेड ने अपनी पॉलिसी में एक बात और कही है कि ऊंची ब्याज दरें लंबे समय तक बनी रह सकती है, मतलब ये कि ब्याज दरों में कटौती को लेकर जल्द किसी राहत की उम्मीद नहीं करनी चाहिए, क्योंकि भले ही महंगाई बीते कुछ महीनों से कम हो रही है, लेकिन अब भी वो केंद्रीय बैंक की तय सीमा से काफी ऊपर है.

फेड चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने कहा- 'अगर वाजिब रहा तो दरों को और बढ़ाने के लिए तैयार हैं, हम पॉलिसी को रिस्ट्रिक्टिव स्तर पर रखना चाहते हैं जबतक कि हमें यकीन नहीं हो जाता है कि महंगाई हमारे उद्देश्य की ओर लगातार घट रही है.'

महंगाई को काबू में लाना है

फेडरल ओपन मार्केट कमिटी (FOMC) ने जुलाई में दर में 25 बेसिस पॉइंट की बढ़ोतरी की थी, जिससे दरें 22 साल में सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गईं थीं.

पॉलिसी ऐलान को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस में पॉवेल ने कहा - 'हम मॉनिटरी पॉलिसी के ऐसे रुख को हासिल करने और बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं जो समय के साथ महंगाई को हमारे 2% लक्ष्य तक लाने के लिए पर्याप्त रूप से रिस्ट्रक्टिव हो. हमें लगता है कि उसके बेहद करीब हैं, जहां हमें पहुंचना है.'

कटौती कब से शुरू होगी?

जहां तक ब्याज दरों में कटौती का सवाल है, फेड अधिकारियों को अगले साल जून में उनकी उम्मीद से कम राहत मिलने का अनुमान है, जो अर्थव्यवस्था और श्रम बाजार में नई ताकत को दर्शाता है. अब उन्हें उम्मीद है कि 2024 के अंत तक फेडरल रेट को घटाकर 5.1% करना सही होगा, उनके औसत अनुमान के अनुसार, 4.6% से ऊपर जब अनुमान आखिरी बार जून में अपडेट किए गए थे. उनको लगता है कि इसके बाद दरें 2025 के अंत में गिरकर 3.9% और 2026 के अंत में 2.9% तक आ जाएंगी.

अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने कहा कि आर्थिक गतिविधि मजबूती से बढ़ रही है. हाल के महीनों में नौकरियां मिलने की रफ्तार धीमी हुई है लेकिन मजबूती अब भी बनी हुई है. फेडरल रिजर्व ने बताया कि बेरोजगारी दर में कमी आई है, लेकिन महंगाई अब भी ज्यादा है.

महंगाई, इकोनॉमिक ग्रोथ का अनुमान

US फेडरल रिजर्व के ग्रोथ अनुमान में तेज उछाल और बेरोजगारी अनुमानों में तेज कटौती की गई है. फेड ने 2023 में मीडियन इकोनॉमिक ग्रोथ का अनुमान जून के 1% के मुकाबले बढ़ाकर सीधे 2.1% किया. वहीं बेरोजगारी दर का अनुमान घटाया गया है. US फेडरल रिजर्व को 4.5% के बजाए अब 4.1% पीक जॉबलेस रेट का अनुमान है.

फेड अधिकारियों का अनुमान है कि महंगाई अगले साल 3% से नीचे आ जाएगी, और 2026 में यह 2% पर लौट आएगी. उन्हें उम्मीद है कि 2023 में 2.1% की संशोधित होने के बाद 2024 में आर्थिक विकास धीमा होकर 1.5% हो जाएगा.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT