ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

Income Tax बचाने के 7 करामाती फंडे, 10.5 लाख तक की आय पर टैक्स बचा सकते हैं

जैसे ही हम कमाना शुरू करते हैं, टैक्स का मीटर भी चालू हो जाता है, जितनी ज्यादा कमाई, उतना ज्यादा टैक्स, लेकिन आप थोड़ी समझदारी दिखाएं तो काफी टैक्स बचा भी सकते हैं.
NDTV Profit हिंदीNDTV Profit डेस्क
NDTV Profit हिंदी08:47 AM IST, 05 Dec 2022NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

कमाई है तो टैक्स भी है, लेकिन टैक्स बचाने के कारगर तरीके मिल जाएं तो जिंदगी कुछ आसान जरूर हो जाती है. चलिए, ध्यान से समझते हैं इन तरीकों को लेकिन उससे पहले इनकम टैक्स के अलग-अलग स्लैब को जानना जरूरी है.

पहले स्लैब समझ लें (Income Tax Slabs)

  • अगर आपकी सालाना आमदनी 2.5 लाख रुपये से कम है तो कोई इनकम टैक्स नहीं देना होगा

  • 2.5 लाख से 5 लाख रुपये तक की आय पर 5% टैक्स लगेगा

  • 5 लाख से 10 लाख रुपये तक की आय पर 20% इनकम टैक्स बनता है

  • 10 लाख से ऊपर की आय पर 30% इनकम टैक्स देना पड़ता है

अब जानते हैं कि 10.5 लाख तक की सालाना आमदनी होने के बावजूद आप इनकम टैक्स कैसे बचा सकते हैं और वह भी बिल्कुल कानूनी तरीके से

फंडा नंबर 1: 50 हजार की छूट

स्टैंडर्ड डिडक्शन (Standard Deduction) के रूप में आपको 50,000 रुपये तक की छूट मिलती है. इसे आप अपनी 10.5 लाख रुपये की सालाना कमाई से घटा सकते हैं. ऐसा करने पर आपकी टैक्सेबल इनकम 10.5 लाख से घटकर 10 लाख रुपये रह जाएगी

फंडा नंबर 2: 80C में 1.5 लाख की छूट

10 लाख की टैक्सेबल इनकम से आप और 80C के तहत निवेश पर मिलने वाली 1.5 लाख रुपये की छूट को भी घटा सकते हैं. यह छूट EPF, PPF, NSC इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश पर मिलती है.

दो बच्चों की ट्यूशन फीस का खर्च और होमलोन का प्रिंसिपल अमाउंट भी इसी 1.50 लाख रुपये में शामिल किया जा सकता है. इस तरह 10 लाख में से 1.5 लाख रुपये घटा देने के बाद टैक्सेबल इनकम रह जाएगी 8.5 लाख रुपये

फंडा नंबर 3: 50 हजार की एक और छूट

नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) में 50 हजार रुपये तक का निवेश भी इनकम टैक्स के दायरे से बाहर रखा जाता है. यह छूट घटा देने के बाद अब 8 लाख रुपये ही इनकम टैक्स के दायरे में रह जाएंगे. अब आगे हम इसी रकम के बारे में बात करेंगे

फंडा नंबर 4: होम लोन पर 2 लाख तक ब्याज पर छूट

होम लोन के 2 लाख रुपये तक का ब्याज पर भी आयकर में छूट मिलती है. इस छूट को 8 लाख रुपये की टैक्सेबल इनकम से घटा दें तो कर योग्य आय 6 लाख रुपये ही रह जाएगी

फंडा नंबर 5: मेडिक्लेम से पाएं 75 हजार की छूट (Mediclaim Benefits)

मेडिक्लेम के लिए इनकम टैक्स में अलग से छूट का प्रावधान है. टैक्सपेयर अपने, अपनी पत्नी और बच्चों के हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम पर 25,000 रुपये तक का डिडक्शन क्लेम कर सकता है. इसके अलावा माता-पिता अगर सीनियर सिटिजन हैं, तो उनके हेल्थ इंश्योरेंस के लिए 50,000 रुपये तक का अतिरिक्त डिडक्शन भी लिया जा सकता है.

दोनों मिलाकर हेल्थ इंश्योरेंस पर मिलने वाली 75,000 रुपये की इस अतिरिक्त टैक्स छूट को 6 लाख की कर योग्य आय से घटा दें तो अब टैक्सेबल इनकम 5.25 लाख रुपये ही रह जाएगी

फंडा नंबर 6: 25,000 रुपए तक दान भी छूट के दायरे में

इनकम टैक्स में 25,000 रुपये तक की टैक्स छूट चंदा या दान देकर पायी जा सकती है. इसके लिए दान या चंदे की मुहर लगी रसीद जमा करनी पड़ती है. अगर आप ऐसा कर सकें, तो आपकी अब कर योग्य आय और भी घटकर महज 5 लाख ही रह जाएगी

फंडा नंबर 7: 12,500 रुपये का टैक्स ऐसे होगा माफ!

इनकम टैक्स स्लैब के हिसाब से 2.5 लाख तक की आय टैक्स फ्री होती है, इससे ऊपर 5 लाख तक की आमदनी पर 5% टैक्स देना होता है. यानी ढाई लाख रुपये पर 5 प्रतिशत के हिसाब से आपकी टैक्स देनदारी 12,500 रुपये बनती है. लेकिन इनकम टैक्स एक्ट का सेक्शन 87(A) आयकर में 12,500 रुपये की रिबेट यानी छूट देता है. यानी टैक्स की बचीखुची देनदारी भी इस रिबेट की वजह से खत्म हो जाती है

तो इस तरह आप 10.5 लाख रुपये की सालाना आमदनी पर एक भी पैसा टैक्स देने से बच सकते हैं. मुश्किल ये है कि इतनी कमाई में इतने सारे खर्च और निवेश हो पाएंगे क्या.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT