ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

Jharkhand Trust Vote: झारखंड के मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने हासिल किया विश्वासमत, पक्ष में पड़े 47 वोट

झारखंड असेंबली में कुल 81 सीटें हैं, इसमें 29 सीटें JMM की, 17 कांग्रेस की, RJD-CPI (ML) की 1 सीट है.
NDTV Profit हिंदीमोहम्मद हामिद
NDTV Profit हिंदी03:25 PM IST, 05 Feb 2024NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

झारखंड के मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने विधानसभा में विश्वास मत हासिल किया कर लिया. फ्लोर टेस्ट में चंपाई सोरेन के पक्ष में 47 विधायकों ने वोट दिया, जबकि विपक्ष में 29 वोट डाले गए.

झारखंड असेंबली में कुल 81 सीटें हैं, इसमें 29 सीटें JMM की, 17 कांग्रेस की, RJD-CPI (ML) की 1 सीट है. लेकिन JMM MLA सरफराज अहमद ने इस्तीफा दे दिया, इसलिए कुल सीटें रह गईं 80, इसलिए मेजोरिटी के लिए 41 सीटें चाहिए थीं. BJP के पास 26 MLA थे, जबकि उसके सहयोगी ऑल झारखंड स्टूडेंट्स के पास 3 सीटें हैं.

झारखंड का अस्थिर करने की कोशिश: चंपाई सोरेन

झारखंड में बीते कुछ दिनों से जबरदस्त उठापटक चल रही है. पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को जमीन घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ED ने 31 जनवरी को गिरफ्तार कर लिया था. इसके बाद चंपाई सोरेन को झारखंड का मुख्यमंत्री बनाया गया और 2 फरवरी को उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई.

विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के दौरान अपनी सरकार के शक्ति परीक्षण से पहले राज्य विधानसभा को संबोधित किया. चंपाई सोरेन ने कहा कि साजिश के तहत झारखंड को अस्थिर करने की कोशिश की गई है. जब-जब यहां के आदिवासी नेतृत्व अपनी क्षमता बढ़ाते हैं, तो उस नेतृत्व को दबाने की कोशिश की जाती है. इस बार भी यही किया जा रहा है, लेकिन हम दबने वाले नहीं हैं. चंपाई सोरेन आरोप लगाया कि 'देश में जो केंद्र सरकार के महाराज बैठे हुए हैं, उन्होंने केंद्रीय एजेंसी का गलत इस्तेमाल किया है.

पिछले हफ्ते मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों में गिरफ्तार हेमंत सोरेन को PMLA से जुड़े मामलों की सुनवाई करने वाली एक स्पेशल कोर्ट ने उन्हें विश्वास मत प्रक्रिया में भाग लेने की इजाजत दी थी, इसलिए आज के प्रदर्शन में हेमंत सोरेन भी विधानसभा में मौजूद थे. अदालत ने दो फरवरी को हेमंत सोरेन को पांच दिन के लिए ED की हिरासत में भेज दिया था.

आरोप साबित हुए तो छोड़ दूंगा राजनीति: हेमंत सोरेन

हेमंत सोरेन ने राज्य की विधानसभा में BJP को उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप साबित करने की चुनौती देते हुए कहा कि अगर आरोप साबित हो गए तो वह राजनीति छोड़ देंगे. हेमंत सोरेन ने कहा कि एक दस्तावेज निकालकर दिखा दें कि मैंने साढ़े 8 एकड़ जमीन हड़पी है तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा.

उन्होंने कहा कि सुनियोजित तरीके से 2022 से इसकी स्क्रिप्ट लिखी जा रही थी. गिरफ्तारी की इस सुनियोजित साजिश में राजभवन भी शामिल था. ये पकवान धीमी आंच पर पकाया जा रहा था. मैं आंसू नहीं बहाऊंगा, हमारे आंसुओं की कोई कीमत नहीं है. हम लोगों ने सिर झुकाकर चलना नहीं सीखा. आदिवासी, दलित, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों पर अत्याचार हो रहा है. वे देश में सुरक्षित नहीं हैं.

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT