ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

रेपो रेट पर RBI के पॉज से रियल एस्टेट सेक्टर में खुशी, एक्सपर्ट्स बोले- घर खरीदारों के लिए भी राहत

रियल एस्‍टेट डेवलपर्स को उम्‍मीद है कि घरों की बढ़ती लागत के बावजूद स्थिर होम लोन, घर खरीदारों को राहत देगा.
NDTV Profit हिंदीनिलेश कुमार
NDTV Profit हिंदी02:28 PM IST, 08 Feb 2024NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
NDTV Profit हिंदी
Follow us on Google NewsNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदीNDTV Profit हिंदी

Real Estate Sectors on RBI MPC Decision: RBI गवर्नर शक्तिकांत दास की अगुवाई वाली मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) ने छठी बार रेपो दर को 6.5% पर बरकरार रखा है. इस फैसले के बाद रियल एस्टेट सेक्टर में पिछले साल से आई तेजी को एक बार फिर पंख मिले हैं.

रियल एस्टेट के दिग्गजों ने भी इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि नए साल में रेपो दर में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं होना डेवलपर्स के साथ-साथ होम बॉयर्स के लिए भी राहत भरी खबर है.

CREDAI ने जताई फैसले पर खुशी

क्रेडाई-NCR के अध्यक्ष और गौड़ ग्रुप के CMD मनोज गौड़ ने कहा, पिछले एक साल से RBI ने रेपो रेट को 6.5% पर बरकरार रखा है. ये बढ़िया फैसला है. रियल एस्टेट सेक्टर में लगातार डिमांड बनी हुई है, खासकर कमर्शियल सेगमेंट असाधारण रूप से अच्छा प्रदर्शन कर रहा है और देश की इकोनॉमी मजबूती से आगे बढ़ रही है.

उम्‍मीद है कि रेजिडेंशियल सेगमेंट पिछले वर्ष की गति को बनाए रखेगा. ये सेक्टर देश भर में पिछली तिमाहियों की तरह उछाल दिखाना जारी रखेगा. RBI ने लोन लेने वालों के साथ-साथ लोन देने वाले बैंकों को भी बड़ी राहत दी है.

घर खरीदारों का मनोबल और ऊंचा होगा

काउंटी ग्रुप के डायरेक्‍टर अमित मोदी ने कहा कि एक बार फिर से RBI का फैसला निश्चित रूप से रियल एस्टेट सेक्टर के लिए फायदेमंद है. खासकर घर खरीदारों और निवेशकों का मनोबल और ऊंचा होगा. इससे स्पष्ट संकेत है कि देश की इकोनॉमी लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही है.

रेजिडेंशियल सेक्टर्स में मांग बढ़ने की उम्मीद

सिग्नेचर ग्लोबल (India) के फाउंडर और चेयरमैन प्रदीप अग्रवाल ने कहा, जैसा अपेक्षित था, RBI ने एक बार फिर रेपो दरों को बरकरार रखा है.

उन्‍होंने कहा, 'मेरे खयाल से फरवरी 2023 के बाद से छठी बार लंबे समय तक दरों को नियंत्रित रखने का उद्देश्य आर्थिक विकास की गति को नुकसान पहुंचाए बिना महंगाई दर को नियंत्रित बनाए रखना है. पॉलिसी रेट्स में कटौती रियल एस्टेट सेक्टर में डेवलपर्स और निवेशकों, दोनों के लिए फायदेमंद है. ये निर्णय घर खरीदारों को सही ऑप्‍शन चुनने की अनुमति देता है, सभी रेजिडेंशियल सेक्टर्स में मांग बढ़ने की उम्मीद है.'

निवेशकों के लिए भी फायेदमंद

अंसल हाउसिंग के डायरेक्टर कुशाग्र अंसल ने कहा कि RBI का फैसला इस बात का संकेत देता है कि ग्लोबल इकोनॉमी की तुलना में भारत की आर्थिक स्थिति बेहतर है. हर लिहाज से RBI का ये फैसला रियल एस्टेट सेक्‍टर के लिए फायदा पहुंचाने वाला है. दर नहीं बनाए रखने का ये फैसला निवेशकों और घर खरीदारों दोनों के लिए अच्छा साबित होगा.

रियल एस्‍टेट में बढ़ेगा निवेश

MRG ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर रजत गोयल ने कहा, 'आवास की बढ़ती लागत के बावजूद स्थिर होम लोन, घर खरीदारों को राहत देगा. नतीजतन खरीदारों और डेवलपर्स दोनों को स्थिर ब्याज दरों से लाभ होगा, जिससे रियल एस्टेट सेक्टर में कंज्‍यूमर का विश्वास और निवेश बढ़ेगा. RBI के फैसले से नए लॉन्च और उभरते हॉटस्पॉट में प्रोजेक्ट्स के विस्तार को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है.

अफोर्डेबल हाउसिंग सेगमेंट को बढ़ावा

रहेजा डेवलपर्स के नयन रहेजा ने कहा, 'RBI के इस कदम से स्थिरता को बढ़ावा मिलेगा और घर खरीदारों और निवेशकों सहित स्टेकहोल्डर के बीच विश्वास बढ़ेगा. वहीं, स्‍पेक्‍ट्रम मेट्रो के वाइस प्रेसिडेंट (सेल्‍स एंड मार्केटिंग) अजेंद्र सिंह ने कहा कि हर लिहाज से RBI द्वारा उठाया गया ये कदम कॉमर्शियल और रेजिडेंशियल रियल एस्टेट क्षेत्र के लिए बेहद फायदेमंद है. उम्मीद करते हैं कि ये पूरा साल निवेशकों के लिए अच्छा साबित हो.

मिगसन ग्रुप के निदेशक यश मिगलानी और साया ग्रुप के चेयरमैन एंड मैनेजिंग डायरेक्टर विकास भसीन ने भी RBI के फैसले की सराहना की. उन्‍होंने कहा, 'RBI ने कर्ज लेने वालों के साथ साथ कर्ज देने वाले बैंकों को भी बड़ी राहत दी है. RBI का ये निर्णय रियल एस्टेट सेक्टर के लिए राहत की खबर है.'

NDTV Profit हिंदी
फॉलो करें
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT